उद्देश्य

    एक स्पष्ट, ठोस और प्रगतिशील दृष्टिकोण जो प्रशासन को बदलने, कानून का शासन तथा अर्थव्यवस्था के साथ-साथ ग्रामीण अर्थव्यवस्था, कृषिक्षेत्र, बुनियादी ढाँचा, शिक्षा, पर्यावरण और स्वास्थ्यसेवा संबंधी सुधार पर विशेष ध्यान दे और आम तौर पर दैनिक जीवन में आसानी लाए ऐसे राष्ट्र को स्थापित करना.

    इसके अलावा, भारत को एक सांस्कृतिक और आध्यात्मिक शक्ति-स्त्रोत बनाए जो सर्वांगी विकास और एक निष्पक्ष समाज निर्मिति सुनिश्चित करें. एक सामान्य दृष्टिकोण के रूप में, इसका उद्देश्य लोगों के राजनीतिक विचार, सामाजिक मुद्दों, विविधता और आर्थिक दृष्टिकोण के सन्दर्भ में लोगों के मन-बुद्धि को बदलना यह है.